Entertainment

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है?

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है की बात करे तो इसे Carassius auratus कहा जाता है। अगर हिन्दी में देखा जाये तो हिन्दी में Goldfish ka scientific name कैरासियस ऑराटस है। Goldfish (Carassius auratus) एक बहुत ही प्रसिद्ध ornamental मछली है, जिन्हें की लोग अक्सर अपने पालतू के तोर पर घर पर रखना पसंद करते हैं।

चूँकि ये दिखने में काफ़ी खूबसूरत होते हैं और इनकी सुनहरी रंग सच में इनपर काफ़ी अच्छी दिखायी पड़ती है। लेकिन अक्सर परीक्षा में ये सवाल पूछा जाता है की Goldfish का Scientific नाम क्या है ? इसका जवाब बहुत ही आसान है लेकिन काफ़ी लोगों को इस विषय में कुछ भी मालूम नहीं होता है। गोल्डफिश का वैज्ञानिक नाम कई बार अलग अलग Exams में पूछे जा चुके है। इसलिए इसकी जानकारी होना बहुत ही आवस्यक होता है।

इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को गोल्डफिश का वैज्ञानिक नाम के बारे में बताया जाए। वहीं इसके साथ आपको Goldfish से जुड़ी छोटी बड़ी जानकारी भी प्रदान की जाएगी। ऐसे में मेरी आपने विनती है की आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें जिससे आपके मन में उठ रहे सभी सवाल जो की Goldfish के Scientific नाम से जुड़ी हो वो आसानी से क्लीर हो सकें। तो बिना देरी के चलिए शुरू करते हैं।

गोल्डफिश का क्या नाम है?

गोल्डफिश को सुनहरी मछली के नाम से जाना जाता है।

सुनहरी मछली कार्प परिवार की मछलियों की कई प्रजातियों का सामान्य नाम है। वे आमतौर पर शांत या धीमी गति से चलने वाले मीठे पानी के आवासों में पाए जाते हैं।

कुछ संस्कृतियों में, सुनहरीमछली को एक कटोरे या टैंक में पालतू जानवर के रूप में रखा जाता है।

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है | Scientific Name of GoldFish in Hindi

Goldfish का Scientific नाम (वैज्ञानिक नाम) Carassius Auratus होता है। वहीं इसे हिन्दी में Goldfish ka scientific naam बोलें तब इसे कैरासियस ऑराटस कहा जाता है। 

सुनहरी मछली की यदि उत्पत्ति की अगर बात करें तब ये समशीतोष्ण जलवायु से उत्पन्न होती है। ये मछली प्राय तोर से जंगली होती थी, लेकिन लोगों ने इन्हें इनकी सुंदरता के कारण अपने घरों में रखना शुरू कर दिया। वहीं वे पूरे एशिया और पूर्वी यूरोप के कुछ हिस्सों में ठंडी धाराओं, झीलों और तालाबों में पायी जाती हैं। आज के समय में, सुनहरी मछली की एक विस्तृत विविधता उपलब्ध है।

Scientific Name Of GoldfishCarassius Auratus
गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या हैकैरासियस ऑराटस
हिंदी नामसुनहरी मछली
जीवित समय10 से 15 साल
जाति (Category)कैरासियस
निवाश स्थानमीठा पानी
वजनज्यादा से ज्यादा 4.5 kg
लंबाईज्यादा से ज्यादा 45 सेंटीमीटर तक
PH रेंज6.5 से 8.5
भोजनशैवाल, लार्वा, कीट इत्यादि

GoldFish (सुनहरी मछली) की किस्में (Types of Goldfish)

आपको Goldfish के Scientific नाम के बारे में तो पता चल गया होता और Goldfish भी अलग अलग किस्मो की होती है इसमें से कुछ मुख्य किस्में निचे दिए गये है आप बिस्तर दे देख सकते है ।

आम सुनहरी मछलीकाले मूरबब्ल आईदिव्य आंखेंधूमकेतु (कोमेट)
ओरानडापर्लस्केलवेलटेलरयुकिनपोमपोम
शुबनकिनदूरबीन आंखघुमावदार गिल सुनहरी मछलीरैनचुअंडा मछली सुनहरी
लायनचुशुकिन(Shukin)Tamasabaफैनटेल (पंखे नुमा पूंछ वाली)पांडा मूर
टोसाकिनसफेद टेलीस्कोपउल्का सुनहरी मछलीसिंह मस्तिष्कतितली पूंछ

Goldfish को हिंदी में क्या कहा जाता है ?

Goldfish को हिंदी में “सुनहरी मछली” कहा जाता है। गोल्डफिश को हिंदी में सुनहरी मछली कहा जाता है क्योंकि यह मछली सुनहरी रंग की पाई जाती है इनका रंग बहुत ही आकर्षित रूप में होता है जो सभी लोगों को अपनी ओर आकर्षित कर लेता है. 

Goldfish का मुख्य भोजन क्या है?

Goldish या सुनहरी मछली को कीड़े मकौड़े, छोटे पौधे, और क्रसटेशियन खाना काफ़ी पसंद होते हैं। ये सर्वाहारी होते हैं वहीं इन्हें ये मालूम नहीं पड़ता की कब खाद्य को खाना बंद करें। ये लगातार बहुत समय तक और बहुत कुछ खाने में सक्षम होती हैं। चलिए अब इन गोल्डफ़िश के पसंदीदा चीजों के बारे में जानते हैं :-

AlgaeZooplanktonमच्छर
Blood wormsFish eggsBrine shrimp
टैडपोलMysis shrimpजल पिस्सू
Baby lobstersWormsसड़ता हुआ पौधा पदार्थ
कीट लार्वाWater lettuceAnacharis

ये कुछ सामान्य खाद्य पदार्थ हैं जो सुनहरी मछली अपने पूरे जीवन में जंगल में खाते हैं। ज्यादातर समय, सुनहरी मछली कीड़े, कीट लार्वा, पौधे, और कीड़े या अन्य मछलियों के अंडे खाने का विकल्प चुनती हैं। उनके पास अपेक्षाकृत छोटे मुंह हैं जो बहुत अधिक भोजन का उपभोग करना कठिन बनाते हैं, और शिकारी के रूप में उनकी आक्रामक क्षमताएं छोटे जीवों को आश्चर्यचकित करने तक ही सीमित हैं।

इससे मालूम पड़ता है की वो अच्छे शिकारी नहीं होते हैं

क्या Goldfish को खा सकते हैं?

जी हाँ दोस्तों Goldfish को आप आसानी से अपने खाने में खा सकते हैं। ऐसा इसलिए क्यूँकि ये आम दूसरे ताज़े मछली की तरह ही होती हैं। इसलिए इन्हें खाने से कोई दिक़्क़त वाली बात नहीं होती है।

गोल्ड फिश (Goldfish) का साइंटिफिक वर्गीकरण (Scientific Classification of Goldfish)

अब चलिए गोल्ड फिश (Goldfish) का साइंटिफिक वर्गीकरण के बारे में कुछ जानकारी प्राप्त करते हैं।

गोल्डफिश का वैज्ञानिक नामकैरासियस औराटस
हिंदी नामसुनहरी मछली
जातिकैरासियस
निवाश स्थानमीठा पानी
मूल श्रोतचीन
आकार20 Cm
PH रेंज6.5 से 8.5
वजन3 किलो तक
सम्भोग का समयअप्रैल-मई
लंबाई45 सेंटीमीटर तक
भोजनशैवाल,लार्वा,कीट आदि

Goldfish कितना खाना खाती है?

गोल्डफ़िश को दिन में २ से ३ बार ही खाना देना होता है। उन्हें आप बहुत से प्रकार के खाद्य पदार्थ दे सकते हैं जैसे की कीड़े मकौड़े, छोटे पौधे, और क्रसटेशियन इत्यादि। लेकिन हाँ, एक चीज़ का ध्यान दें की आपको उन्हें ज़्यादा खाना देना नहीं चाहिए क्यूँकि उन्हें ज़्यादा खाना उन्हें सेहत के लिए सही नहीं होता है।

गोल्डफिश से जुड़ी कुछ रोचक तथ्य

आप सभी ने Goldfish के Scientific Naam क्या है? यह तो जान लिया चलिए अब जान लेते है गोल्डफिश से जुड़ी कुछ रोचक तथ्य क्या होती है उसके बारे में जानते हैं :-

  • गोल्डफिश लोगों के चेहरे को पहचान सकती है और यह विभिन्न प्रकार के रंग, आकार और ध्वनियों के बीच अंतर भी कर सकती है।
  • गोल्डफिश वास्तव में मनुष्य को देखती है वह UV Rays को देख सकती है।
  • गोल्डफिश बिना किसी भोजन के 3 सप्ताह तक जीवित रह सकती है।
  • गोल्डफिश मनुष्यों को पहचान सकती है ।
  • गोल्डफिश अपने ही बच्चों को खा जाती है। इसके अलावा भी यह दूसरी छोटी मछलियों को भी खाती है ।
  • चीन में यह मछली अधिक मिलती है ।
  • सुनहरी मछली की उम्र लंबी होती है और अगर ठीक से देखभाल की जाए तो यह तीस साल तक जीवित रह सकती है।
  • गोल्डफिश की उचित देखभाल के लिए प्रति मछली कम से कम तीस लीटर पानी में रखा जाना चाहिए।
  • सुनहरीमछलियां सर्वाहारी होती हैं, जिसका अर्थ है कि वे न केवल मछली बल्कि मच्छरों के लार्वा, पानी के पिस्सू, कीड़े, जलीय पौधे और शैवाल भी खाते हैं जब उन्हें बगीचे के तालाब में रखा जाता है। दलिया, अंडे और मकई को कभी-कभी इनके लिए रखा जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker